रंग बदलता है कश्मीर के खीर भवानी मंदिर का कुंड, जानें खासियत

Spread the love

खीर भवानी मंदिर में सोमवार को होने वाले वार्षिक महोत्वस के लिए कई प्रवासी कश्मीरी पंडित यहां पहुंच चुके हैं. उत्तरी कश्मीर के गांदरबल जिले में स्थित तुलमुल गांव में स्थित माता राग्नी का खीर भवानी मंदिर कश्मीरी पंडितों के लिए आस्था का सबसे बड़ा प्रतीक है. आइए आपको इस धार्मिक स्थल के इतिहास और विशेषता के बारे में बताते हैं.

खीर भवानी मेला कश्मीरी पंडितों का सालाना त्योहार है. ऐसा कहा जाता है कि रावण के भक्ति भाव से प्रसन्न होकर मां राज्ञा माता (क्षीर भवानी या राग्याना देवी) प्रकट हुई थीं. इसके बाद रावण ने उनकी स्थापना कुलदेवी के रूप में करवाई. हालांकि कुछ समय बाद रावण के व्यवहार और बुरे कर्म के चलते देवी नाराज हो गईं और रावण की नगरी छोड़कर चली गईं.