हैदराबाद:गणेश चतुर्थी पर दर्शन करें 50 लाख में बनी 40 फीट ऊंची मूर्ति के, 150 से ज्यादा कलाकारों ने 2 महीने में बनाई है ये प्रतिमा

Spread the love

आज (10 सितंबर) से दस दिवसीय गणेश उत्सव शुरू हो गया है। सबसे ऊंची गणेश प्रतिमाओं के लिए प्रसिद्ध हैदराबाद के खेरताबाद में इस साल 40 फीट ऊंची गणेश मूर्ति स्थापित की गई है। इस मूर्ति को बनाने में 50 लाख रुपए से ज्यादा की लागत आई है। मूर्ति 150 ज्यादा कलाकारों ने मिलकर बनाई है।

खेरताबाद गणेश उत्सव के आयोजक एस. राजकुमार ने बताया कि इस साल गणेश जी पंचमुखी रुद्र महागणपति प्रतिमा बनाई गई है। मूर्ति को बनाने में दो महीने का समय लगा है। मुख्य शिल्पी सी. राजेंद्रन हैं। उनकी 150 से ज्यादा कलाकारों की टीम ने 10 जुलाई से मूर्ति बनाना शुरू किया गया था। आंध्रप्रदेश के अलावा महाराष्ट्र, मुंबई से कलाकार शामिल थे। मूर्ति मिट्टी, पीओपी, बांस आदि चीजों की मदद से बनाई गई है।
2019 में 1 करोड़ रुपए में बनी थी 61 फीट ऊंची प्रतिमा

पिछले साल कोरोना की वजह से यहां लॉकडाउन था तो करीब 9 फीट की प्रतिमा यहां स्थापित की गई थी। इससे पहले 2019 में 61 फीट ऊंची मूर्ति बनाई गई थी, जिसकी लागत 1 करोड़ रुपए से ज्यादा थी। कोरोना से पहले यहां दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या लाखों में होती थी, लेकिन पिछले साल तो बहुत कम लोग यहां पहुंचे थे। इस साल भी कोरोना के संकट को देखते हुए गणेश जी के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं के लिए सेनेटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग, टैम्परेचर चेकिंग और मास्क की व्यवस्था की गई है। भक्तों की सुरक्षा के लिए समिति के दो सौ से ज्यादा सदस्य लगे रहेंगे।

1954 में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एस. शंकरय्या ने खेरताबाद गणेश उत्सव समिति बनाई थी। तब से हर साल यहां गणेश की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाती है। एस. शंकरय्या के बाद उनके भाई एस. सुदर्शन के साथ एस. राजकुमार और उनका परिवार गणेश उत्सव का आयोजन हर साल करता है।
1954 में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एस. शंकरय्या ने खेरताबाद गणेश उत्सव समिति बनाई थी। तब से हर साल यहां गणेश की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाती है। एस. शंकरय्या के बाद उनके भाई एस. सुदर्शन के साथ एस. राजकुमार और उनका परिवार गणेश उत्सव का आयोजन हर साल करता है।
रोज 500 किलो से ज्यादा फूलों की माला अर्पित की जाएगी
पंचमुखी महागणपति प्रतिमा को हर रोज 500 किलो फूलों से बनी माला अर्पित की जाएगी। माला बनाने में कई तरह के फूलों का इस्तेमाल किया जाता है।

विसर्जन में शामिल होते हैं लाखों भक्त
गणेश जी की विशाल प्रतिमा के विसर्जन में लाखों भक्त शामिल होते हैं। यहां की हुसैन सागर झील में प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है। विसर्जन के लिए क्रैन की मदद ली जाती है।