सितंबर के चौथे हफ्ते का पंचांग:इस सप्ताह रहेगा पितृ पक्ष; 20 से 26 सितंबर तक सिर्फ एक व्रत और एक पर्व, इनमें पूर्णिमा और संकष्टी चतुर्थी

Spread the love

ज्योतिषीय नजरिया: इस सप्ताह होगा बुध का राशि परिवर्तन, नए कामों की शुरुआत के लिए 3 शुभ मुहूर्त

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक सितंबर के चौथे हफ्ते में एक पर्व और एक व्रत ही रहेगा। इस हफ्ते की शुरुआत पितृ पक्ष से हो रही है। श्राद्ध के इन दिनों में सिर्फ पितरों की पूजा और उनके लिए दान करने की परंपरा है। सप्ताह का पहला दिन भाद्रपद महीने की पूर्णिमा है। ग्रंथों में इसे पर्व कहा गया है। इस दिन तीर्थ स्नान और दान की परंपरा है। साथ ही भगवान विष्णु की पूजा भी की जाती है। इसके बाद शुक्रवार को संकष्टी चतुर्थी का व्रत किया जाएगा। ज्योतिषीय नजरिये से भी ये हफ्ता खास नहीं है। इस सप्ताह बुध ग्रह अपनी ही राशि यानी कन्या से निकलकर तुला में आ जाएगा। वहीं, नए और शुभ कामों की शुरुआत के लिए सिर्फ 3 दिन ही मुहूर्त रहेंगे।

20 से 26 सितंबर तक का पंचांग
20 सितंबर, सोमवार – भाद्रपद पूर्णिमा, प्रोष्ठपदी श्राद्ध, पूर्णिमा व्रत
21 सितंबर, मंगलवार – अश्विन कृष्णपक्ष, प्रतिपदा
22 सितंबर, बुधवार – अश्विन कृष्णपक्ष, द्वितिया
23 सितंबर, गुरुवार – अश्विन कृष्णपक्ष, तृतीया
24 सितंबर, शुक्रवार – अश्विन कृष्णपक्ष, चतुर्थी, संकष्टी चतुर्थी व्रत

25 सितंबर, शनिवार – अश्विन कृष्णपक्ष, पंचमी 26 सितंबर, रविवार – अश्विन कृष्णपक्ष, षष्ठी

ज्योतिषीय नजरिये से ये सप्ताह
21 सितंबर, मंगलवार – सर्वार्थसिद्धि योग
22 सितंबर, बुधवार – बुध का राशि परिवर्तन, तुला राशि में
23 सितंबर, गुरुवार – सर्वार्थसिद्धि योग
26 सितंबर, रविवार – रवियोग